Just another WordPress.com weblog

रुद्राक्ष, ऋद्राक्ष, रुद्राक्‍क्ष, रुद्राकक्ष, शिव अक्ष रुद्राक्ष, शिव अश्रु रुद्राक्ष, शिव आँसू रूद्राक्ष, नेपाली रुद्राक्ष, नेपालि रुद्राक्ष, इन्डोरनेशीयाई रुद्राक्ष, इंडोनेशिया रुद्राक्ष, असली एक से चौदह मुखी रुद्राक्ष, ओरिज्नल एक मुखी रुद्राक्ष, एक मुखि, दो मुखी रुद्राक्ष, द्विमुखी, तीन मुखी रुद्राक्ष, तिन मुखी, त्रिमुखी, त्रीमुखी, चतुर्मुखी रुद्राक्ष, चार मुखी, पंचमुखी रुद्राक्ष, पांच मुखी, छः मुखी रुद्राक्ष, षष्ठमुखी, सप्त मुखी रुद्राक्ष, सात मुखी, अष्टमुखी रुद्राक्ष, आठ मुखी, नव मुखी रुद्राक्ष, नौमुखी, दश मुखी रुद्राक्ष, एकादश मुखी रुद्राक्ष, ग्यारामुखी, द्वादश मुखी रुद्राक्ष, बारह मुखी, त्रयोदश मुखी रुद्राक्ष, तेरह मुखी, चतुर्दश मुखी रुद्राक्ष, चौदह मुखी रुद्राक्ष, गौरीशंकर रुद्राक्ष, गौरीशंकर रुद्राक्ष, गणेश रुद्राक्ष, Rudrsksha, Rudraksha, rudrAkksha, rudrakaksha, rudraksh, Origin of Rudraaksh, rudraksha, Shiv Rudraksha, Shiv Tears Rudraksha,Rudraaksh, rudraksh, Rudraakksh, Rudraakksh, Shiva Tears Rudraaksh, teardrop Rudraaksh Shiva, Shiva Rudraksha tears, Rudraaksh Nepal, Nepali Rudraaksh, Indorneshiyai Rudraaksh, Indonesia Rudraaksh, Rudraaksh real one Fourteen Mukhi, Orijnl Rudraaksh a one face, one Muki, two facing Rudraaksh , three facing Rudraaksh, three Mukhi, Trimuki, Trimuki, four face Rudraaksh , four Mukhi, Panchamukhi Rudraaksh, five mukhi, Five facing rudraksh, six mukhi Rudraaksh, Shshtmuki, seven Mukhi Rudraaksh, seven Mukhi, seven facing rudraksh, Ashtmuki Rudraaksh, eight Mukhi, eight Face, nine Mukhi Rudraaksh, Naumuki, nine Rudraaksh facing rudraksh, ten mukhi Rudraaksh, tenth Mukhi, Gyaramuki, eleven faced rudraksha, twelve facing Rudraaksh, twelve Mukhi, twelve facing Rudraaksh, thirteen Mukhi, thirteen facing Rudraaksh,  Mukhi, Rudraaksh fourteen Mukhi, fourteen Facing, Gauri Shankar Rudraaksh, Gauri Shankar Rudraaksh, Ganesh Rudraaksh,

रुद्राक्ष की उत्पत्ति
लेखसाभार:गुरुत्वज्योतिषपत्रिका (दिसम्बर-2011)
रुद्रस्य अक्षि रुद्राक्ष:, अक्ष्युपलक्षितम्  
अश्रु, तज्जन्य: वृक्ष:।  
पुटाभ्यां चारुचक्षुर्भ्यां पतिता जलबिंदवः   
तत्राश्रुबिन्दवो जाता वृक्षा रुद्राक्षसंज्ञकाः॥                 .
रुद्राक्ष को भगवान शिव का प्रतिक माना जाता है रुद्राक्ष की उत्पत्ति भगवान शिव के अश्रु से हुइथी इस लिये इसे रुद्राक्ष कह जाता है रुद्र का अर्थ है शिव और अक्ष का अर्थ है आँख। दोनो को मिलाकर रुद्राक्ष बना।

रूद्र+अक्ष  शब्द का संयोग रूद्राक्ष कहलाता है । रुद्र का अर्थ है । भगवान शिव का रौद्र रूप और अक्ष का अर्थ है आँख । दोनो को मिलाकर रुद्राक्ष बना ।

रुद्राक्ष भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए विशेष रुप से फलदायी सिद्ध होता हैं।

धर्मग्रंथोंशास्त्रों व पुराणों में रुद्राक्ष की महिमा का विस्तार से वर्णन किया गया है। यहां पाठको के मार्गदर्शन के लिए कुछ प्रमुख ग्रंथो में उल्लेखित रुद्राक्ष से संबंधित जानकारीयां दी जा रही हैं।

रुद्राक्ष के गुणो का विस्तृत वर्णन लिंगपुराणमत्स्यपुराणस्कंदपुराणशिवमहापुराणपदमपुराणमहाकाल संहिता मन्त्रमहार्णव निर्णय सिन्धुबृहज्जाबालोपनिषद्……………..>>

>> Read Full Article Please Read GURUTVA JYOTISH  DEC-2011

एक कथा के अनुसार:
एक बार भगवान शिव ने सैकडों हजार वर्षो तक अंतर्ध्यान रहे। जब भगवान शिव ने ध्यान पूर्ण होने के बाद जब शिवजी ने अपने नेत्र खोले, तो उनके नेत्र से आंसुओं की धारा निकलने लगी। शिवजी के नेत्रों से निकली यहं दिव्य अश्रु-बूंद भूलोक पर गिरी, भूलोक पर जहां-जहां भी अश्रु बुंदे गिरे, उनसे अंकुरण फूट पडा! बाद में यही रुद्राक्ष के वृक्ष बन गए। कालांतर में यही रुद्राक्ष शिव भक्तो के प्रिय बन कर समग्र विश्व में व्याप्त हो गए।
दूसरी कथा के अनुशार:
एक बार सती के पिता दक्ष प्रजापति ने अपने यहां यज्ञ का आयोजन किया। हवन करते समय दक्षने भगवान शिव का अपमान कर दिया। शिवजी के अपमान पर क्रोधित होकर शिव की पत्नी सती ने स्वयं को अग्निकुंड में समाहित करलिया। सती का जला शरीर देख कर शिव अत्यंत क्रोधित हो गए।
            भगवानशिवनेउन्मतकिभांतिसतीकेजलेहुएशरीरकोकंधेपररख……………..>>
>> Read Full Article Please Read GURUTVA JYOTISH  DEC-2011
स्कंद पुराण की कथा:
एक बार भगवान कार्तिक ने अपने पिता भगवान शिवजी से पूछा:- हे पिता श्री ! यह रुद्राक्ष कया हैं?
रुद्राक्ष को धाराण करना इस लोक और परलोक में श्रेष्ठ क्यों माना जाता हैं?
रुद्राक्ष के कितने मुख होते हैं? उसके कौन से मंत्र हैं? मनुष्य रुद्राक्ष को किस प्रकार धारण करें? कृपा कर यह सब आप मुझे विस्तार से समझाए?
शिव जी बोले हे षडानन रुद्राक्ष की उत्पत्ति का वर्णन मैं तुम्हें संक्षिप्त में बता रहा हूं।
शंकर उवाच:
श्रृणु षण्मुख तत्त्वेन कथयामि समासतः।
त्रिपुरो नाम दैत्येन्द्रः पूर्वमासीत्सुदुर्जय:॥
अर्थात:हे षडानन (छह वाला) स्कंदजी ! तुम सुनोपूर्वकाल में त्रिपुर नामक एक महान शक्तिशाली व पराक्रमी दैत्यों का राजा हुआ था। त्रिपुर को जीतने में देव-दानव में से कोई भी समर्थ नहीं था।

 

उसने अपने पराक्रम से संपूर्ण देवलोक को जील लिया। तब ब्रह्मा, विष्णुअ, इन्द्रादि सभी देव एवं मुनि गण मेरे पास आए और दैत्यराज त्रिपुर को मारने की प्राथना की। तब मैने त्रिपुर को मारने ……………..>>
>> Read Full Article Please Read GURUTVA JYOTISH DEC-2011



>> Read Full Article Please Read GURUTVA JYOTISH  DEC-2011
तेनाश्रुबिंदुभिर्जाता मर्त्ये रुद्राक्षभूरुहाः।

उस नेत्र से निकले अश्रृ बिंदु से भूलोक में रुद्राक्ष के वृक्ष उत्पन्न हो गए।

भक्तों पर कृपा करने के लिए एवं संसारका कल्याण हो इस लक्ष्य से मेरे ये अश्रुबिंदु रुद्राक्ष के रुप में व्याप्त हो गये और रुद्राक्ष के नाम से विख्यात हो गए, ये षडानन रुद्राक्ष को धारण करने से……………..>>

>> Read Full Article Please Read GURUTVA JYOTISH  DEC-2011

संपूर्ण लेख पढने के लिये कृप्या गुरुत्व ज्योतिष पत्रिका दिसम्बर2011 का अंक पढें

इस लेख को प्रतिलिपि संरक्षण (Copy Protection) के कारणो से यहां संक्षिप्त में प्रकाशित किया गया हैं।

>> गुरुत्वज्योतिष पत्रिका (दिसम्बर2011)
GURUTVA JYOTISH DEC-2011
રુદ્રાક્ષ, ઋદ્રાક્ષ, રુદ્રાક્‍ક્ષ, રુદ્રાકક્ષ, શિવ અક્ષ રુદ્રાક્ષ, શિવ અશ્રુ રુદ્રાક્ષ, શિવઆઁસૂરૂદ્રાક્ષ, નેપાલી રુદ્રાક્ષ, નેપાલિ રુદ્રાક્ષ, ઇન્ડોરનેશીયાઈ રુદ્રાક્ષ, ઇંડોનેશિયા રુદ્રાક્ષ, અસલી એક સે ચૌદહ મુખી રુદ્રાક્ષ, ઓરિજ્નલ એક મુખી રુદ્રાક્ષ, એક મુખિ, દો મુખી રુદ્રાક્ષ, દ્વિમુખી, તીન મુખી રુદ્રાક્ષ, તિન મુખી, ત્રિમુખી, ત્રીમુખી, ચતુર્મુખી રુદ્રાક્ષ, ચાર મુખી, પંચમુખી રુદ્રાક્ષ, પાંચ મુખી, છઃ મુખી રુદ્રાક્ષ, ષષ્ઠમુખી, સપ્ત મુખી રુદ્રાક્ષ, સાત મુખી, અષ્ટમુખી રુદ્રાક્ષ, આઠ મુખી, નવ મુખી રુદ્રાક્ષ, નૌમુખી, દશ મુખી રુદ્રાક્ષ, એકાદશ મુખી રુદ્રાક્ષ, ગ્યારામુખી, દ્વાદશ મુખી રુદ્રાક્ષ, બારહ મુખી, ત્રયોદશ મુખી રુદ્રાક્ષ, તેરહ મુખી, ચતુર્દશ મુખી રુદ્રાક્ષ, ચૌદહ મુખી રુદ્રાક્ષ, ગૌરીશંકર રુદ્રાક્ષ, ગૌરીશંકર રુદ્રાક્ષ, ગણેશ રુદ્રાક્ષ, ರುದ್ರಾಕ್ಷ, ಋದ್ರಾಕ್ಷ, ರುದ್ರಾಕ್‍ಕ್ಷ, ರುದ್ರಾಕಕ್ಷ, ಶಿವ ಅಕ್ಷ ರುದ್ರಾಕ್ಷ, ಶಿವ ಅಶ್ರು ರುದ್ರಾಕ್ಷ, ಶಿವಆಂಸೂರೂದ್ರಾಕ್ಷ, ನೇಪಾಲೀ ರುದ್ರಾಕ್ಷ, ನೇಪಾಲಿ ರುದ್ರಾಕ್ಷ, ಇನ್ಡೋರನೇಶೀಯಾಈ ರುದ್ರಾಕ್ಷ, ಇಂಡೋನೇಶಿಯಾ ರುದ್ರಾಕ್ಷ, ಅಸಲೀ ಏಕ ಸೇ ಚೌದಹ ಮುಖೀ ರುದ್ರಾಕ್ಷ, ಓರಿಜ್ನಲ ಏಕ ಮುಖೀ ರುದ್ರಾಕ್ಷ, ಏಕ ಮುಖಿ, ದೋ ಮುಖೀ ರುದ್ರಾಕ್ಷ, ನವ ಮುಖೀ ರುದ್ರಾಕ್ಷ, ನೌಮುಖೀ, ದಶ ಮುಖೀ ರುದ್ರಾಕ್ಷ, ಏಕಾದಶ ಮುಖೀ ರುದ್ರಾಕ್ಷ, ಗ್ಯಾರಾಮುಖೀ, ದ್ವಾದಶ ಮುಖೀ ರುದ್ರಾಕ್ಷ, ಬಾರಹ ಮುಖೀ, ತ್ರಯೋದಶ ಮುಖೀ ರುದ್ರಾಕ್ಷ, ತೇರಹ ಮುಖೀ, ಚತುರ್ದಶ ಮುಖೀ ರುದ್ರಾಕ್ಷ, ಚೌದಹ ಮುಖೀ ರುದ್ರಾಕ್ಷ, ಗೌರೀಶಂಕರ ರುದ್ರಾಕ್ಷ, ಗೌರೀಶಂಕರ ರುದ್ರಾಕ್ಷ, ಗಣೇಶ ರುದ್ರಾಕ್ಷ,ருத்ராக்ஷ, ருத்ராக்ஷ, ருத்ராக்‍க்ஷ, ருத்ராகக்ஷ, ஶிவ அக்ஷ ருத்ராக்ஷ, ஶிவ அஶ்ரு ருத்ராக்ஷ, ஶிவஆம்ஸூரூத்ராக்ஷ, நேபாலீ ருத்ராக்ஷ, நேபாலி ருத்ராக்ஷ, இந்டோரநேஶீயாஈ ருத்ராக்ஷ, இம்டோநேஶியா ருத்ராக்ஷ, அஸலீ ஏக ஸே சௌதஹ முகீ ருத்ராக்ஷ, ஓரிஜ்நல ஏக முகீ ருத்ராக்ஷ, ஏக முகி, தோ முகீ ருத்ராக்ஷ, நவ முகீ ருத்ராக்ஷ, நௌமுகீ, தஶ முகீ ருத்ராக்ஷ, ஏகாதஶ முகீ ருத்ராக்ஷ, க்யாராமுகீ, த்வாதஶ முகீ ருத்ராக்ஷ, பாரஹ முகீ, த்ரயோதஶ முகீ ருத்ராக்ஷ, தேரஹ முகீ, சதுர்தஶ முகீ ருத்ராக்ஷ, சௌதஹ முகீ ருத்ராக்ஷ, கௌரீஶம்கர ருத்ராக்ஷ, கௌரீஶம்கர ருத்ராக்ஷ, கணேஶ ருத்ராக்ஷ, రుద్రాక్ష, ఋద్రాక్ష, రుద్రాక్‍క్ష, రుద్రాకక్ష, శివ అక్ష రుద్రాక్ష, శివ అశ్రు రుద్రాక్ష, శివఆఁసూరూద్రాక్ష, నేపాలీ రుద్రాక్ష, నేపాలి రుద్రాక్ష, ఇన్డోరనేశీయాఈ రుద్రాక్ష, ఇండోనేశియా రుద్రాక్ష, అసలీ ఏక సే చౌదహ ముఖీ రుద్రాక్ష, ఓరిజ్నల ఏక ముఖీ రుద్రాక్ష, ఏక ముఖి, దో ముఖీ రుద్రాక్ష, నవ ముఖీ రుద్రాక్ష, నౌముఖీ, దశ ముఖీ రుద్రాక్ష, ఏకాదశ ముఖీ రుద్రాక్ష, గ్యారాముఖీ, ద్వాదశ ముఖీ రుద్రాక్ష, బారహ ముఖీ, త్రయోదశ ముఖీ రుద్రాక్ష, తేరహ ముఖీ, చతుర్దశ ముఖీ రుద్రాక్ష, చౌదహ ముఖీ రుద్రాక్ష, గౌరీశంకర రుద్రాక్ష, గౌరీశంకర రుద్రాక్ష, గణేశ రుద్రాక్ష, രുദ്രാക്ഷ, ഋദ്രാക്ഷ, രുദ്രാക്‍ക്ഷ, രുദ്രാകക്ഷ, ശിവ അക്ഷ രുദ്രാക്ഷ, ശിവ അശ്രു രുദ്രാക്ഷ, ശിവആംസൂരൂദ്രാക്ഷ, നേപാലീ രുദ്രാക്ഷ, നേപാലി രുദ്രാക്ഷ, ഇന്ഡോരനേശീയാഈ രുദ്രാക്ഷ, ഇംഡോനേശിയാ രുദ്രാക്ഷ, അസലീ ഏക സേ ചൗദഹ മുഖീ രുദ്രാക്ഷ, ഓരിജ്നല ഏക മുഖീ രുദ്രാക്ഷ, ഏക മുഖി, ദോ മുഖീ രുദ്രാക്ഷ, നവ മുഖീ രുദ്രാക്ഷ, നൗമുഖീ, ദശ മുഖീ രുദ്രാക്ഷ, ഏകാദശ മുഖീ രുദ്രാക്ഷ, ഗ്യാരാമുഖീ, ദ്വാദശ മുഖീ രുദ്രാക്ഷ, ബാരഹ മുഖീ, ത്രയോദശ മുഖീ രുദ്രാക്ഷ, തേരഹ മുഖീ, ചതുര്ദശ മുഖീ രുദ്രാക്ഷ, ചൗദഹ മുഖീ രുദ്രാക്ഷ, ഗൗരീശംകര രുദ്രാക്ഷ, ഗൗരീശംകര രുദ്രാക്ഷ, ഗണേശ രുദ്രാക്ഷ,  ਰੁਦ੍ਰਾਕ੍ਸ਼, ਰੁਦ੍ਰਾਕ੍ਸ਼, ਰੁਦ੍ਰਾਕ੍‍ਕ੍ਸ਼, ਰੁਦ੍ਰਾਕਕ੍ਸ਼, ਸ਼ਿਵ ਅਕ੍ਸ਼ ਰੁਦ੍ਰਾਕ੍ਸ਼, ਸ਼ਿਵ ਅਸ਼੍ਰੁ ਰੁਦ੍ਰਾਕ੍ਸ਼, ਸ਼ਿਵਆਁਸੂਰੂਦ੍ਰਾਕ੍ਸ਼, ਨੇਪਾਲੀ ਰੁਦ੍ਰਾਕ੍ਸ਼, ਨੇਪਾਲਿ ਰੁਦ੍ਰਾਕ੍ਸ਼, ਇਨ੍ਡੋਰਨੇਸ਼ੀਯਾਈ ਰੁਦ੍ਰਾਕ੍ਸ਼, ਇਂਡੋਨੇਸ਼ਿਯਾ ਰੁਦ੍ਰਾਕ੍ਸ਼, ਅਸਲੀ ਏਕ ਸੇ ਚੌਦਹ ਮੁਖੀ ਰੁਦ੍ਰਾਕ੍ਸ਼, ਓਰਿਜ੍ਨਲ ਏਕ ਮੁਖੀ ਰੁਦ੍ਰਾਕ੍ਸ਼, ਏਕ ਮੁਖਿ, ਦੋ ਮੁਖੀ ਰੁਦ੍ਰਾਕ੍ਸ਼, ਨਵ ਮੁਖੀ ਰੁਦ੍ਰਾਕ੍ਸ਼, ਨੌਮੁਖੀ, ਦਸ਼ ਮੁਖੀ ਰੁਦ੍ਰਾਕ੍ਸ਼, ਏਕਾਦਸ਼ ਮੁਖੀ ਰੁਦ੍ਰਾਕ੍ਸ਼, ਗ੍ਯਾਰਾਮੁਖੀ, ਦ੍ਵਾਦਸ਼ ਮੁਖੀ ਰੁਦ੍ਰਾਕ੍ਸ਼, ਬਾਰਹ ਮੁਖੀ, ਤ੍ਰਯੋਦਸ਼ ਮੁਖੀ ਰੁਦ੍ਰਾਕ੍ਸ਼, ਤੇਰਹ ਮੁਖੀ, ਚਤੁਰ੍ਦਸ਼ ਮੁਖੀ ਰੁਦ੍ਰਾਕ੍ਸ਼, ਚੌਦਹ ਮੁਖੀ ਰੁਦ੍ਰਾਕ੍ਸ਼, ਗੌਰੀਸ਼ਂਕਰ ਰੁਦ੍ਰਾਕ੍ਸ਼, ਗੌਰੀਸ਼ਂਕਰ ਰੁਦ੍ਰਾਕ੍ਸ਼, ਗਣੇਸ਼ ਰੁਦ੍ਰਾਕ੍ਸ਼, রুদ্রাক্ষ, ঋদ্রাক্ষ, রুদ্রাক্‍ক্ষ, রুদ্রাকক্ষ, শিৱ অক্ষ রুদ্রাক্ষ, শিৱ অশ্রু রুদ্রাক্ষ, শিৱআঁসূরূদ্রাক্ষ, নেপালী রুদ্রাক্ষ, নেপালি রুদ্রাক্ষ, ইন্ডোরনেশীযাঈ রুদ্রাক্ষ, ইংডোনেশিযা রুদ্রাক্ষ, অসলী এক সে চৌদহ মুখী রুদ্রাক্ষ, ওরিজ্নল এক মুখী রুদ্রাক্ষ, এক মুখি, দো মুখী রুদ্রাক্ষ, নৱ মুখী রুদ্রাক্ষ, নৌমুখী, দশ মুখী রুদ্রাক্ষ, একাদশ মুখী রুদ্রাক্ষ, গ্যারামুখী, দ্ৱাদশ মুখী রুদ্রাক্ষ, বারহ মুখী, ত্রযোদশ মুখী রুদ্রাক্ষ, তেরহ মুখী, চতুর্দশ মুখী রুদ্রাক্ষ, চৌদহ মুখী রুদ্রাক্ষ, গৌরীশংকর রুদ্রাক্ষ, গৌরীশংকর রুদ্রাক্ষ, গণেশ রুদ্রাক্ষ, ରୁଦ୍ରାକ୍ଷ, ଋଦ୍ରାକ୍ଷ, ରୁଦ୍ରାକ୍କ୍ଷ, ରୁଦ୍ରାକକ୍ଷ, ଶିଵଅକ୍ଷରୁଦ୍ରାକ୍ଷ, ଶିଵଅଶ୍ରୁରୁଦ୍ରାକ୍ଷ, ଶିଵଆଁସୂରୂଦ୍ରାକ୍ଷ, ନେପାଲୀରୁଦ୍ରାକ୍ଷ, ନେପାଲିରୁଦ୍ରାକ୍ଷ, ଇନ୍ଡୋରନେଶୀଯାଈରୁଦ୍ରାକ୍ଷ, ଇଂଡୋନେଶିଯାରୁଦ୍ରାକ୍ଷ, ଅସଲୀଏକସେଚୌଦହମୁଖୀରୁଦ୍ରାକ୍ଷ, ଓରିଜ୍ନଲଏକମୁଖୀରୁଦ୍ରାକ୍ଷ, ଏକମୁଖି, ଦୋମୁଖୀରୁଦ୍ରାକ୍ଷ, ନଵମୁଖୀରୁଦ୍ରାକ୍ଷ, ନୌମୁଖୀ, ଦଶମୁଖୀରୁଦ୍ରାକ୍ଷ, ଏକାଦଶମୁଖୀରୁଦ୍ରାକ୍ଷ, ଗ୍ଯାରାମୁଖୀ, ଦ୍ଵାଦଶମୁଖୀରୁଦ୍ରାକ୍ଷ, ବାରହମୁଖୀ, ତ୍ରଯୋଦଶମୁଖୀରୁଦ୍ରାକ୍ଷ, ତେରହମୁଖୀ, ଚତୁର୍ଦଶମୁଖୀରୁଦ୍ରାକ୍ଷ, ଚୌଦହମୁଖୀରୁଦ୍ରାକ୍ଷ, ଗୌରୀଶଂକରରୁଦ୍ରାକ୍ଷ, ଗୌରୀଶଂକରରୁଦ୍ରାକ୍ଷ, ଗଣେଶରୁଦ୍ରାକ୍ଷ

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

टैग का बादल

%d bloggers like this: